Skip to main content

Lesson-6 कुंडली में योग कारक ग्रह, अकारक ग्रह और मारक ग्रह - yog Karak, akarak and Marak grah

कुंडली में योग कारक ग्रह, अकारक ग्रह और मारक ग्रह 

Yog Karak Grah, Akarak Grah and Marak Grah 

Kundali mein yog karak grah, kundali mein marak grah


यदि आपको कुंडली में योग कारक ग्रह और मारक ग्रह की पहचान करनी आ गई तो समझ लीजिए कि आपको कुंडली का 50 प्रतिशत विश्लेषण करना आ गया| इस विष्य को पढ़ने से पहले आपको कुंडली के 12 भाव,  कुंडली की 12 राशियां और उनके स्वामी के बारे में पता होना चाहिए, इसलिए यदि आपको इन सभी विषयों की जानकारी नहीं है तो आप पहले Free Astrology Classes पर क्लिक करके इन विष्यों को गहराई से समझ लेना है, फिर ही आप कुंडली में योग कारक गृह और मारक गृह की पहचान कर सकोगे|
कुंडली में लग्नेश, त्रिकोण, केंद्र, त्रिषडाये और त्रिक भाव-  ज्योतिष को समझने से पहले आपको कुंडली में लग्नेश, त्रिकोण, केंद्र, त्रिषडाये और त्रिक भाव का ज्ञान होना चाहिए। ज्योतिष शास्त्र में सबसे पहले पराशरी नियमों का ज्ञान होना आवश्यक होता है और पराशरी नियमो को समझने के लिए आपको उकत भावों का गहराई से ज्ञान होना चाहिए। अब आपको विस्तार से समझते हैं। 
जैसा आप चित्र नंबर 1 में देख रहे हैं कि कुंडली में जो प्रथम भाव होता है उसको लग्नेश भाव कहते हैं और यह कुंडली का सबसे महत्वपूर्ण भाव होता है क्यूंकि इसको व्यक्ति का स्वं का भाव कहते हैं। इस प्रथम भाव लग्नेश भाव होने के साथ-साथ त्रिकोण भाव और केंद्र भाव भी होता है। इसलिए लग्न भाव सदैव शुभ माना जाता है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि लग्नेश भाव और त्रिकोण भाव सदैव शुभ माने जाते हैं। जैसे आप ऊपर प्रथम भाव, पंचम भाव और नवम भाव को देख रहे हैं यह तीनो त्रिकोण भाव कहलाते हैं। इसलिए यह तीनो भाव शुभ माने जाते हैं और इस भाव में जो भी राशियां आएंगी उन राशियों के स्वामी सदैव कुंडली में शुभ परिणाम देने वाले होंगे। मगर यहाँ पर आपको बता दें कि कई बार शुभ भाव के स्वामी भी अशुभ फल देने लगते हैं उसको आगे विस्तार से समझते हैं, अभी आप कुंडली में भावों को समझे। 
जैसे आपने ऊपर पढ़ा कुंडली में सदैव त्रिकोण भाव अर्थात प्रथम, पंचम भाव और नवम भाव के स्वामी ग्रह शुभफलदाई होते हैं। यहाँ पर आपको बता दें कि कुंडली में लग्न (प्रथम), पंचम और नवम भाव में जो भी नंबर लिखे होते हैं वह राशियों के नंबर होते हैं और उन राशियों के स्वामी ग्रह को हम कुंडली के शुभ ग्रह मानेंगे। यदि आपको कुंडली में राशि कैसे देखी जाती है उसका ज्ञान नहीं है तो आप हमारे लेसन 'कुंडली में 12 राशियां' के ऊपर क्लिक करके जानकारी हासिल कर सकते हैं। 
अब आपको यह तो पता चल गया होगा के कुंडली के त्रिकोण भाव सदैव शुभ होते हैं। अब आप ऊपर देखें दूसरे और सप्तम भाव को मारक भाव कहते हैं। आगे हम पढ़ेंगे कब मारक ग्रह प्रबल मारक होते हैं, कब कम मारक होते हैं और कब दूसरे और सातवें के स्वामी होते हुए भी मारक का प्रभाव नहीं देते। 
उसके बाद आप चित्र नंबर 1 में देखें तीसरे भाव, छठे भाव और गियारवें (एकादश) भाव को त्रिषडाये भाव कहते हैं। कुंडली में त्रिषडाये भाव को शुभ नहीं माना जाता है। इसके बारे में भी आपको आगे समझते हैं कब त्रिषडाये भाव शुभ और कब अशुभ होते हैं। 
अब चित्र नंबर 1 में देखें कुंडली में प्रथम भाव (लग्न भाव), चौथे भाव, सप्तम भाव और दशम भाव को केंद्र भाव कहा जाता है। कुंडली में यह भाव भी शुभ माने जाते हैं। मगर यहाँ पर आपको बता दें सप्तम भाव केंद्र होने के साथ साथ मारक भाव भी होता है। इसलिए यहाँ पर भी आपको आगे विस्तार से समझायेंगे कि कब केंद्र भाव के स्वामी ग्रह शुभ होते हैं और अब अशुभ। 
इसके बाद आखिर में कुंडली में छठे भाव, अष्टम भाव और द्वादश भाव (बाहरवें भाव) को त्रिक भाव कहा जाता है। वैसे तो कुंडली में यह भाव अशुभ माने जाते हैं, मगर यहाँ पर भी जरुरी नहीं कि इस भाव के स्वामी ग्रह भी सदैव अशुभ फल ही दें। अब हम एक एक करके कुंडली के भावों और उनके स्वामी ग्रह के बारे में समझते हैं। 
कुंडली में योग कारक और कारक ग्रह (Benefic Planets in Kundali)- अब हम आपको कुंडली में योग कारक और कारक ग्रहों की पहचान कराना सिखाते हैं। जैसे आप ऊपर योग कारक और कारक ग्रह का ऊपर चित्र देख रहे हैं सबसे पहले किसी भी जन्म कुंडली (लग्न कुंडली) में आपको देखना है कि कुंडली के लग्न भाव अर्थात प्रथम भाव में कौन सी राशि है। जैसे ऊपर चित्र में लग्न भाव में 4 नंबर लिखा है इसका अर्थ है लग्न भाव में कर्क राशि है। अब हमें यह ज्ञात हो गया है कि यह कुंडली कर्क लग्न की कुंडली है। अब हम आगे देखेंगे कि इस कुंडली में कौन से ग्रह योग कारक और कारक हैं। कुंडली में कारक ग्रह उनको कहा जाता है जो शुभ भावों के स्वामी हों और जो हमें शुभ फल प्रदान करने वाले ग्रह हो। सबसे पहले आपने लग्न भाव (प्रथम भाव) को देखना है और जो भी राशि लग्न भाव में आएगी उसके स्वामी को हम लग्न का स्वामी अर्थात लग्नेश कहते हैं और कुंडली में सबसे शुभ ग्रह लग्नेश होता है। इस तरह से आप जो ऊपर कुंडली देख रहें हैं उसमें लग्न भाव में 4 नंबर लिखा है, यहाँ पर 4 नंबर का अर्थ है कर्क राशि और कर्क राशि का स्वामी चंद्र होता है।  इस तरह से इस कुंडली का सबसे पहले शुभ अर्थात कारक ग्रह चंद्र ग्रह हुआ। उसके बाद जैसे आपको ऊपर बताया गया था कि कुंडली में त्रिकोण भावों अर्थात पंचम और नवम भाव के स्वामी ग्रह कारक होते हैं। अब जैसे आप ऊपर चित्र में पंचम भाव में 8 नंबर राशि देख रहें हैं और 8 नंबर राशि का अर्थ होता है वृश्चिक राशि और इसका स्वामी मंगल होता है। अब इस कुंडली में पंचम भाव में मंगल की राशि आने से यह कुंडली का कारक ग्रह बन गया। अब इसके बाद आपने मंगल ग्रह की दूसरी राशि देखनी है कि वह कौन से भाव में पड़ रही है। अब इस कुंडली में मंगल की दूसरी राशि मेष दशम भाव में पड़ रही है। जैसे आप ऊपर चित्र में देख सकते हैं कि दशम भाव में 1 नंबर लिखा है और 1 नंबर मेष राशि का होता है जो मंगल की राशि होती है। अब आपको बता दें कि यदि किसी ग्रह की एक राशि त्रिकोण भाव अर्थात पंचम और नवम में आ रही हो और उसी ग्रह की दूसरी राशि किसी केंद्र भाव अर्थात चौथे, सातवें और दसवें भाव में आ जाए तो वह ग्रह कुंडली का योग कारक ग्रह बन जाता है। सूर्य और चंद्र ग्रह को छोड़कर बाकी पांच ग्रहों की 2 राशियां होती हैं और यदि किसी भी लग्न कुंडली में किसी ग्रह की एक राशि त्रिकोण अर्थात पंचम और नवम भाव में आ जाए और दूसरी राशि केंद्र भाव में अर्थात चौथे भाव, सातवें भाव और दशम भाव में आ जाए तो वह ग्रह लग्नेश के बाद कुंडली का सबसे शुभ ग्रह माना जाता है। जैसे ऊपर कुंडली में मंगल की एक राशि पंचम भाव में और दूसरी राशि दशम भाव में होने से यह कुंडली का योग कारक ग्रह होता है। 
इसके बाद यदि हम ऊपर कुंडली में नौवें (त्रिकोण) भाव में देखें तो यहाँ पर 12 नंबर लिखा है जिसका अर्थ हुआ कि यह मीन राशि है और मीन राशि का स्वामी ग्रह गुरु होता है अब हमें गुरु ग्रह की दूसरी राशि धनु देखनी है कि वह कौन से भाव में पड़ रही है। जैसे आप ऊपर चित्र में देख सकते हैं कि गुरु की दूसरी राशि धनु कुंडली के छठे भाव में पड़ रही है। इस तरह से गुरु त्रिकोण भाव अर्थात नौवें भाव का स्वामी होकर योग कारक तो हुआ मगर उसकी दूसरी राशि केंद्र भाव अर्थात चौथे, सातवें और दसवें भाव में ना आने से वह योग कारक नहीं हुआ। इस कुंडली में गुरु लग्नेश चंद्र ग्रह का मित्र और नौवें (त्रिकोण) का स्वामी होने से कारक तो है मगर साथ में छठे (त्रिक और त्रिषडाये) बुरे भाव का स्वामी भी है। अब इस कुंडली में गुरु अपनी स्थिति के अनुसार शुभ फल के साथ साथ कुछ अशुभ फल भी दे सकता है। मगर यहाँ पर गुरु ग्रह की कुंडली में स्थिति देखना अनिवार्य हो जाता है। 
जैसे आप जान चुके हैं कि कुंडली में योग कारक और कारक ग्रहों की पहचान कैसे की जाती है और यहाँ पर आपकी जानकारी के लिए आपको बता दें कि यदि कोई नैसर्गिक क्रूर ग्रह कुंडली में योग कारक या कारक बन भी जाए तब भी वह गैरह अपना स्वाभाव नहीं छोड़ता है जैसे ऊपर कुंडली में मंगल पंचम और दशम भाव का स्वामी होने के कारण योग कारक तो है मगर साथ में नैसर्गिक (स्वाभाविक) तौर से क्रूर भी है इस तरह से मंगल के जो कारकत्व होंगे उसका प्रभाव मंगल की स्थिति के अनुसार जरूर मिलेगा। उदाहरण के लिए यदि इस कुंडली में मंगल लगन भाव में होगा और साथ में बलि भी होगा तो व्यक्ति का क्रोध वाला जरूर बनाएगा, मगर लगन भाव में बैठ कर शुभ फल ही देगा।  अब आपको यह तो समझ आ गया होगा कि कुंडली में हम कारक ग्रहों (शुभ ग्रहों) की पहचान कैसे कर सकते हैं। अब हम आगे प्रबल मारक और मारक के बारे में समझते हैं। 







यह Lesson कल सुबह (26.09.2022) तक सम्पूर्ण होगा, कृपा कल तक इंतज़ार करें 




कुंडली दिखाए:- आप घर बैठे कुंडली का विश्लेषण करा सकते हो। सम्पूर्ण कुंडली विश्लेषण में लग्न कुंडली, चंद्र कुंडली, नवमांश कुंडली, गोचर और अष्टकवर्ग, महादशा और अंतरदशा, कुंडली में बनने वाले शुभ और अशुभ योग, ग्रहों की स्थिति और बल का विचार, भावों का विचार, अशुभ ग्रहों की शांति के उपाय, शुभ ग्रहों के रत्न, नक्षत्रों पर विचार करके रिपोर्ट तैयार की जाती है। सम्पूर्ण कुंडली विश्लेषण की फीस मात्र 500 रुपये है।  Whatsapp- 8360319129 Barjinder Saini (Master in Astrology)

यदि आप घर बैठ कर ज्योतिष शास्त्र का फ्री में सम्पूर्ण ज्ञान हासिल करना चाहते हो तो हमारे पेज Free Astrology Classes in Hindi पर क्लिक करें|


Comments

  1. Ek rashi 10 house mein hai ( vrishchak) aur ek rashi (mesh) 3rd house mein aur inn rashi ke malik mangal 5th house mein hai toh mangal kya hongai karak , marak ya phir sam ??? Plz batane ka kast kare.

    ReplyDelete
    Replies
    1. Rana Harishankar ji आप जैसा विवरण हमें बता रहें हैं, उसके हिसाब से आपकी लग्न कुंडली कुंभ लग्न की हुई और इस कुंडली में मंगल की एक राशि मेष कुंडली के तृत्य भाव(त्रिषडाय भाव) में है और दूसरी राशि केंद्र के दशम भाव में है,, इसलिए मंगल इस कुंडली में मारक ग्रह हुआ,, अब मंगल बैठा किस भाव में है, उसके ऊपर किन ग्रहों की दृष्टि है, उसका बल कितना है, चलित में वह अपना भाव तो नहीं बदल रहा,, यह सभी बातों पर भी विचार करना जरुरी है,, मगर मंगल इस कुंडली में है मारक ही

      Delete
  2. Dhanyawad.. Mesh lagn me Mangal grah karak hoga na kyuki wo lagnesh ka swami hai

    ReplyDelete
  3. Mera kark lagn hai. Yog karak Mangal 8th house me hai. Shani, Budh, surya bhee hain wahan.
    Kripya batayen.

    ReplyDelete
  4. Rajnee dob 14 0ct 1978 time 12.55 pm meerut

    ReplyDelete
  5. Agar koi yog karak grah 3,6,8 ya 12 ghar mein baitha ho par wo waha utch ka ho to wo achha fal dega ya bura

    ReplyDelete
    Replies
    1. कुंडली के इन त्रिक भावों(6, 8, 12) में यदि कोई उच्च का गृह या योग कारक गृह भी बैठा हो तो वह भी बुरा फल ही देता है|

      Delete
  6. Mera shukra 8th house me baitha hai ketu ke sath to sukra karak garah hai ya marak garah hai?

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

राहु बीज मंत्र विधि और लाभ - Rahu Beej Mantra in hindi

राहु बीज मंत्र का महत्व Beej Mantra of Rahu in hindi राहु बीज मंत्र विधि और लाभ - राहु और केतु छाया ग्रह होते हैं। इनको अदृश्य ग्रह भी कहा जाता है। राहु को नाग का मुख भी कहा जाता है। राहु ग्रह का प्रत्येक कुंडली में बहुत अधिक महत्व होता है। यह ग्रह कुंडली के जिस भाव में बैठता है, जिस राशि के साथ बैठता है और जिन ग्रहों पर अपनी दृष्टि डालता है, उन सबको प्रभावित करता है। कुंडली में राहु को शनि से भी अधिक पापी ग्रह माना गया है। राहु को शनि का छाया ग्रह कहा जाता है। राहु की तीन दृष्टियां जिन ग्रहों और भावों पर पड़ती है वह सब राहु से प्रभावित होते हैं। कुंडली में यदि राहु अच्छी स्थिति में हो तब भी यह व्यक्ति को गलत कार्यों से ही सफलता प्रदान करता है क्यूंकि राहु का कारक शराब, नशीली दवायें, जुआ-खाना, जेल, चरस, हस्पताल आदि होते हैं और यह योग कारक अर्थात बलि होने पर भी व्यक्ति को इन क्षेत्रों के द्वारा सफलता प्रदान करते हैं। राहु व्यक्ति की बुद्धि को चतुर तो करता है मगर राहु व्यक्ति की बुद्धि को उल्ट कार्यों में ही लगाता है। राहु के शुभ होने पर व्यक्ति शराबखाने, जुए, कीटनाशक दवाएं, हस्पताल, शमशा

शुक्र बीज मंत्र विधि और लाभ - Beej Mantra of Shukra Grah

शुक्र ग्रह बीज मंत्र   Beej Mantra for Shukra Grah शुक्र बीज मंत्र जपने का महत्व - कुंडली में शुक्र ग्रह की स्थिति योग कारक और बलशाली होने पर व्यक्ति सुख-वैभव, ऐशो-आराम, सुंदर एवं सुशील पत्नी, भोगों का सुख आदि से संपन्न होता है| शुक्र दानव ग्रह होते हुए भी एक सौम्य ग्रह है|हम ऐसा भी कह सकते हैं कि शुक्र ग्रह सुख-सुविधाओं का ग्रह होता है| यह व्यक्ति को रंक से राजा बनाने वाला ग्रह होता है|  मगर यदि कुंडली में शुक्र की स्थिति अच्छी ना हो तब उस व्यक्ति को सुख-सुविधा में कमी, पत्नी सुख में कमी, पुरुष के शुक्राणुओं में कमी, समाज में प्रतिष्ठा की कमी होती है| यदि आपकी कुंडली में शुक्र मारक होकर बैठा है, शत्रु राशि में है या त्रिक भावों में बैठा है और किसी तरह का योग इसकी काट नहीं कर रहा तब आप शुक्र ग्रह के बीज मंत्र का जाप करके शुक्र ग्रह के कारकत्व को मारकत्व में बदल सकते हो| शुक्र ग्रह का बीज मंत्र व्यक्ति को सभी प्रकार के सुख देने में समक्ष होता है| शुक्र ग्रह की कृपा होने पर व्यक्ति जगत में विख्यात होने लगता है| यदि आप अभिनेता, मॉडलिंग जैसे क्षेत्र में जाने के इच्छुक हो तो आप शुक्र बीज मं

चंद्र देव बीज मंत्र विधि और लाभ - Beej Mantra of Chandra Grah

चंद्र देव बीज मंत्र विधि और महत्व  Beej Mantra of Chandra Grah                                         चंद्र देव बीज मंत्र विधि और लाभ- चंद्र देव को कुंडली में बहुत अहम् ग्रह माना जाता है क्यूंकि चंद्र ग्रह हमारे मन का कारक गृह होता है। हमारी जन्म कुंडली में भी चंद्र राशि को बहुत महत्व दिया गया है। किसी भी व्यक्ति की कुंडली देखते वक़्त उसकी चंद्र कुंडली और चंद्र राशि पर विचार किया जाता है क्यूंकि चंद्र मन का कारक होने के कारण हमारे मन को प्रभावित करता है इसलिए चंद्र राशि से ही व्यक्ति के स्वाभाव के बारे में विचार किया जाता है। यदि किसी व्यक्ति की कुंडली में चंद्र ग्रह कमजोर हो या मारक हो तब उस व्यक्ति का मनोबल बहुत कम हो जाता है और वह छोटी-छोटी बात पर चिंतित रहने लगता है। इस तरह के लोगों को डिप्रेशन जैसी बीमारी होने का खतरा बना रहता है। यदि जन्म कुंडली में चंद्र योग कारक अर्थात मित्र ग्रह होकर भी बैठा हो और कमजोर अवस्था में हो तब भी चंद्र अपने फल देने में समक्ष नहीं होता है। यदि आपने पता करना है कि आपकी कुंडली में चंद्र ग्रह कमजोर है या बलि है तो अपनी जन्म तिथि को पंचांग में देखिये। यदि

गुरु (बृहस्पति) बीज मंत्र विधि और लाभ -Beej Mantra of Brihaspati (Guru)

बृहस्पति (गुरु) बीज मंत्र  Beej Mantra of Brihaspati (Guru) गुरु (बृहस्पति) बीज मंत्र विधि और लाभ - बृहस्पति (गुरु) ग्रह को ज्ञान और अध्यात्म का ग्रह कहा जाता है। सभी देवताओं यहाँ तक कि शिव, विष्णु और ब्रह्मा के गुरु भी बृहस्पति ग्रह ही हैं। धनु और मीन राशियों के स्वामी बृहस्पति (गुरु) ग्रह हैं। बृहस्पति  सौम्य और देव ग्रहों की श्रेणी में आते  है। यदि किसी की कुंडली में बृहस्पति ग्रह योग कारक और बलि होकर बैठे हो तो वह व्यक्ति ज्ञानी और आध्यात्मिक होता है। यदि किसी की कुंडली में बृहस्पति (गुरु) ग्रह मारक होकर बैठे हो या कुंडली के त्रिक भावों में बैठे हों और विपरीत राज योग ना बन रहा हो तब व्यक्ति में आध्यात्मिक ज्ञान की कमी, समाज में प्रतिष्ठा की कमी, कार्य क्षेत्रों में बांधा आती है। बृहस्पति ग्रह का बीज मंत्र व्यक्ति की इन अड़चनों को ख़तम करता है। वैसे भी किसी भी राशि वाला यदि बृहस्पति बीज मंत्र का जाप करता है तो उसके ज्ञान में बहुत वृद्धि होती है और वह अपने ज्ञान से जगत में विख्यात होता है। याद रहे यदि आपकी कुंडली में बृहस्पति (गुरु) ग्रह मारक होकर बैठा हो या त्रिक भावों में बैठा हो तब

सूर्य देव बीज मंत्र विधि और लाभ - Surya dev mantra sadhna in hindi

सूर्य देव मंत्र साधना Surya dev Mantra sadhna in hindi सूर्य देव बीज मंत्र विधि और लाभ  (Benefits of Surya dev Mantra Sadhna):- हमारी पृथ्वी में मनुष्य, जीव-जन्तुओं और वनस्पति का अस्तित्व सूर्य देव से ही संभव है। आप कल्पना करके देखिए यदि हमारे ब्रह्माण्ड में सूर्य ही ना हो तो हमारा जीवन कैसा होगा और क्या हम जीवित रह सकते हैं। हिन्दू धर्म के वैदिक ग्रंथों में सूर्य देव को नारायण का अंश कहा गया है हम ऐसे भी कह सकते हैं कि साक्षात् नारायण भगवान अपनी किरणों से समस्त जगत का पालन-पोषण कर रहे हैं। हमारे ग्रंथों में सूर्य साधना का इतना महत्व लिखा है कि यदि किसी व्यक्ति पर सूर्य देव प्रसन्न हो जाएं तो वह अपनी कृपा दृष्टि से व्यक्ति को अपने सामान चमका देते हैं और व्यक्ति को इस काबिल बना देते हैं कि वह संसार में अपने कार्यों की प्रसिद्धि से सूर्य देव के सामान एक अलग पहचान बना लेता है। सूर्य देव की साधना व्यक्ति को प्रसिद्धि दिलाती है और हम आपको आगे सूर्य देव मन्त्र और उसकी साधना की विधि बताते हैं। यदि किसी की कुंडली में सूर्य मारक स्थिति में हो तब व्यक्ति को सूर्य की महादशा और अंतरदशा में बहुत कष

शनि बीज मंत्र विधि और लाभ - Beej Mantra for Shani dev in hindi

शनि ग्रह बीज मंत्र   Beej Mantra for Shani dev in hindi  शनि बीज मंत्र विधि और लाभ - सबसे धीमी चाल चलने वाले शनि देव यदि किसी व्यक्ति पर प्रसन्न हो जाएं तो उस व्यक्ति को रंक से राजा बना देते हैं और यदि शनि देव अपनी क्रूर दृष्टि किसी व्यक्ति पर डाल दें तो उस व्यक्ति को राजा से रंक भी बना देते हैं| शनि ग्रह को लेकर हमारे लोगों में काफी भ्रांतियां फैलाई जाती हैं कि यदि किसी व्यक्ति के ऊपर शनि की महादशा, अंतर दशा, ढैया (2.5 वर्ष), साढ़सति (7.5 वर्ष) की दशा चलती है तो शनि देव उस व्यक्ति को कष्ट देना शुरू कर देते हैं या कई लोग इंटरनेट या टेलीविज़न में अपनी राशि के आधार पर शनि का ढैया या साढ़ेसाती की दशा का फल देखना शुरू कर देते हैं| मगर आपको बता दें कि कुंडली में शनि की स्थिति देखने के लिए काफी कुछ देखना पड़ता है और फिर हम किसी परिणाम तक पहुँच सकते हैं कि शनि आपको अच्छा फल देंगे या बुरा फल देंगे| कुंडली में शनि की अच्छी या बुरी स्थिति देखने के लिए देखा जाता है कि शनि योग कारक है या मारक, शनि कुंडली के कौन से भाव में स्थित है, शनि सूर्य के साथ अस्त है कि नहीं, शनि शत्रु राशि में स्थित तो नहीं| यह