Skip to main content

बटुक भैरव मंत्र साधना सम्पूर्ण विधि - Batuk Bhairav Mantra Sadhna

बटुक भैरव मंत्र साधना
Batuk Bhairav Mantra Sadhna 



बटुक भैरव मंत्र साधना, batuk bhairav mantra sadhna, batuk bhairav mantra in hindi, batuk bhairav mantra in english, batuk bhairav mantra sadhna benefits, batuk bhairav chamatkaar

बटुक भैरव बहुत ही शीघ्र प्रसन्न होने वाले और तुरंत फल देने वाले देवता हैं। यह दुर्गा माता के लाडले पुत्र और शिव के अवतार हैं। यदि इनको अपना इष्ट बनाकर इनकी साधना प्रारम्भ की जाए तो आपकी ज़िंदगी के सभी कष्ट धीरे-धीरे ख़तम होने लगते हैं। नवग्रहों में से किसी भी गृह का दोष कुंडली में चल रहा हो आप बटुक भैरव जी के मंत्र की साधना करके उसका निवारण कर सकते हो। 
यदि कोई साधक इनको अपना इष्ट मानकर रोज़ाना इनके मंत्र का जाप श्रद्धा और विश्वास के साथ करने लग जाता है तो बटुक भैरव जी आठों पहर (24 घंटे) उसकी छाया की तरह साथ रहकर रक्षा करते हैं। बटुक भैरव जी का जिस घर में मंत्र जाप रोज़ाना होता हो वहां पर जादू-टोना या कोई भी बुरी शक्ति का प्रभाव नहीं रहता है। बटुक भैरव जी का तीनों लोक में ऐसा प्रभाव है कि काल भी इनके नाम से कांपता है। बटुक भैरव मंत्र साधना के कुछ दिनों के बाद ही व्यक्ति को अनुभूतियाँ होनी शुरू हो जाती हैं। साधना के दौरान कई तरह के चमत्कार होने शुरू हो जाते हैं। यह सब बातें मैं अपने खुद के अनुभव से लिख रहा हूं। मैंने जिस विधि से बटुक भैरव की साधना प्रारम्भ की थी वह विधि ही आपके समक्ष रखूँगा। आप भी उस विधि से बटुक भैरव जी की साधना करके बहुत शीघ्र उनकी कृपा प्राप्त कर सकते हो। मैं आपको आगे बटुक भैरव साधना का मंत्र और विधि विस्तार से बताता हूं। 

नोट:- बटुक भैरव साधना में आपको जो भी अनुभूतियाँ हों या स्वपन में बटुक भैरव जी किसी भी रूप में दर्शन दें तो उसका जिक्र गुरु के अतिरिक्त किसी से भी नहीं करना है अन्यथा आपको अनुभूतियाँ होनी ख़तम हो जाएँगी। इसलिए साधना में कुछ भी अनुभूति या कोई चमत्कार होता है उसको सिर्फ अपने तक सीमित रखना है।     

बटुक भैरव मंत्र - Batuh Bhairav Mantra 

ॐ बं बटुक-भैरवाय नमः 

ॐ ह्रीं बटुकाय वां क्षौं क्षौं आपदुद्धारणाय कुरु कुरु बटुकाय ह्रीं बटुकाय स्वाहा  

Batuk Bhairav Mantra in English.

Om Bum Batuk-Bhairvaye Namha.

Om Hrim Batukaye Vaam Kshom Kshom Aapdudarnaye Kuru Kuru Batukaye Hrim Batukaye Swaha.

बटुक भैरव मंत्र साधना विधि (Batuk Bhairav Mantra Vidhi):- आप ऊपर दिए गए दोनों मंत्रों में से किसी एक मंत्र का जाप कर सकते हो| बटुक भैरव जी की साधना 2 प्रकार की होती है 1. सात्विक साधना 2. तामसिक साधना|यदि आप गृहस्थी वाले हो तो आपको सात्विक साधना ही करनी चाहिए| सात्विक साधना में सात्विक सामग्री का प्रयोग होता है और तामसिक साधना में तामसिक सामग्री जैसे मास-मदिरा का प्रयोग किया जाता है| 

* बटुक भैरव मंत्र जाप के लिए आपने काली स्फटिक माला का प्रयोग करना है| यदि काली स्फटिक माला ना मिले तो आप रुद्राक्ष की माला का प्रयोग भी कर सकते हो| लाल रंग के आसन का प्रयोग करना है|

* यह साधना को आप किसी रविवार या शनिवार को प्रारम्भ कर सकते हो| यह साधना आपने कम से कम 21 दिनों तक रोज़ाना एक स्थान और एक सम्य पर करनी है| साधना रात्रिकालिन है इसलिए बटुक मंत्र का जाप रात्रि को 9 बजे के बाद ही करना चाहिए| मंत्र जाप पूर्व या दक्षिण दिशा की और मुख करके करनी है|

* बटुक भैरव मंत्र जाप में एक छोटी बटुक भैरव जी की फोटो स्थापित करनी है और एक बटुक भैरव यन्त्र को स्थापित करना है| यन्त्र को किसी थाली में चावल और थोड़ी हल्दी रखकर उसके ऊपर यन्त्र को स्थापित करना है| उस यन्त्र के बीच में एक सुपारी को रखना है| 21 दिन मंत्र साधना के बाद उस यन्त्र और अन्य सामग्री को चलते पानी में विसर्जित कर देना है| यदि आपसे बटुक भैरव यन्त्र यन्त्र की व्यवस्था नहीं हो पा रही तो आप बटुक भैरव सिद्ध यन्त्र को क्लिक करके सिद्ध यन्त्र खरीद सकते हो।  

* बटुक भैरव सात्विक साधना में आपने देसी घी का दीपक और धूप का प्रयोग करना है| बटुक भैरव जी को रोज़ाना एक छुहारे (Dry Date) का भोग लगाना है और सुबह उस छुहारे को छत पर पक्षियों को डाल देना है|

* पहले दिन मंत्र जाप शुरू करने से पहले गणेश वंदना, गुरु वंदना और कुलदेवता की वंदना करनी है उसके बाद आपने 21 दिन तक 1, 3 या 5  माला रोज़ाना जाप करने का संकल्प लेना है| आप मंत्र का जाप 1, 3, 5, 11 माला जितनी आपकी यथाशक्ति है उतना कर सकते हो| 21 दिन तक रोज़ाना जाप संख्या एक होनी चाहिए| यदि आप संकल्प लेने की विधि नहीं जानते हो तो आप हमारे पेज संकल्प की विधि पर क्लिक करके प्राप्त कर सकते हो|

* आप जितना भी जाप करते हो उसका दशांश (दसवां हिस्सा) मंत्र से आहुति देकर हवन करना है| आप हफ्ते में एक दिन या रोज़ाना भी हवन कर सकते हो| साधना के आखिर वाले दिन को आपने हवन करने के बाद एक माला जाप की आहुति दूध से बनी खीर से देनी है| इससे बटुक भैरव जी बहुत प्रसन्न होते हैं| प्रत्येक रविवार को मीठी रोटी का बटुक भैरव जी को भोग लगाकर किसी श्वान को डालनी है| यदि आप हवन करने की विधि नहीं जानते हो तो हमारे पेज सरल हवन विधि पर क्लिक करके प्राप्त कर सकते हो|

* बटुक भैरव की साधना में आपको कई तरह की अनुभूतियाँ हो सकती हैं मगर आपको घबराना नहीं है| जितनी श्रद्धा और लग्न से मंत्र का जाप करोगे सफलता उतनी शीघ्रता से मिलेगी| 21 दिन मंत्र साधना ख़तम होने के बाद भी रोज़ाना एक माला का जाप निरंतर करते रहें| बटुक भैरव जी अपनी कृपा आपके ऊपर बनाये रखेंगे|

* साधना में ब्रह्मचर्य का पूर्ण पालन होना चाहिए| बटुक भैरव जी भी हनुमान जी की तरह यति हैं| इसलिए इनकी साधना में तन के साथ साथ मन को भी पवित्र रखना है| 

* यदि आपको बटुक भैरव जी की साधना से सबंधित कोई प्रश्न पूछना हो तो आप कमेंट बॉक्स में पूछ सकते हो| आपको 24 घंटों के भीतर भीतर उत्तर दिया जाएगा|

कुंडली दिखाए:- आप घर बैठे कुंडली का विश्लेषण करा सकते हो। सम्पूर्ण कुंडली विश्लेषण में लग्न कुंडली, चंद्र कुंडली, नवमांश कुंडली, गोचर और अष्टकवर्ग, महादशा और अंतरदशा, कुंडली में बनने वाले शुभ और अशुभ योग, ग्रहों की स्थिति और बल का विचार, भावों का विचार, अशुभ ग्रहों की शांति के उपाय, शुभ ग्रहों के रत्न, नक्षत्रों पर विचार करके रिपोर्ट तैयार की जाती है। सम्पूर्ण कुंडली विश्लेषण की फीस मात्र 500 रुपये है।  Whatsapp- 8360319129 Barjinder Saini (Master in Astrology)


यदि आप घर बैठे फ्री में ज्योतिष शास्त्र सीखना चाहते हो तो हमारे पेज Free Astrology Classes in Hindi पर क्लिक करें| 

Comments

  1. क्या आप मेरी मदद कर सकते हैं लाकडाउन से काम बंद हो गया है किराया बढ़ा कर देने की स्थिति में अभी हम नहीं है अब घर खाली करने के लिए परेशान कर रहें हैं मुझे क्या करना चाहिए कैसे साधना करूं बटुक भैरव बाबा की10/15 का टाईम है बहुत परेशान हैं कुछ मदद किजिए मैंने आपका अनुभव आज ही पढ़ा है

    ReplyDelete
  2. और अगर बुटुक भैरव बाबा कि , तस्वीर और यन्त्र न हो तो कैसे साधना करें जो शीघ्र असर करे

    ReplyDelete
  3. Koi orat batuk bhairav ji ki sadhna kar sakti hai kya

    ReplyDelete
  4. Mera naam toton kolkata me raheta hu aur main ye sadhana karna chata hu . Mera 1st prosno : is sadhana me koi rakkhya mantra chahiye kya ? 2md prosno . Bina guru k ye sadhana kar sak ta hu kya ? Mera koi guru nahi hai . Mera what's app no 7604098395

    ReplyDelete
    Replies
    1. 1) koi suraksha mantra nahiin lagtaa. Batuk bhairav kii poojaa karne waale par koi hamlaa nahiin kartaa.. shraddhaa se karoge toh koi dikkat nahiin hai.
      2) shiv ko hi guru Maan lo..

      Delete
  5. बटुक भैरव साधना करने वालो को क्या परहेज करना चाहिए

    ReplyDelete
  6. Sadhna khatam hone bad mantra ka jab (1 mala) raat he me karni Hai ya din Me bhi Kar sake Hai

    ReplyDelete
  7. Sadhna khatam hone key bad mantra ka jap(1mala)kis samba karna hai?

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

बाबा कालीवीर चालीसा और आरती, Baba Kaliveer ji Chalisa Aarti

बाबा कालीवीर चालीसा और आरती  कालीवीर चालीसा  काली-पुत्र का नाम ध्याऊ, कथा विमल महावीर सुनाऊ| संकट से प्रभु दीन उभारो, रिपु-दमन है नाम तिहारो| विद्या, धन, सम्मान की इच्छा, प्रभु आरोग्य की दे दो भिक्षा| स्वर्ण कमल यह चरण तुम्हारे, नेत्र जल से अरविंद पखारे| कलिमल की कालिख कटे, मांगू मैं वरदान|  रिद्धि-सिद्धि अंग-संग रहे,  सेवक लीजिए जान| श्री कुलपति कालीवीर प्यारे,  कलयुग के तुम अटल सहारे|  तेरो बिरद ऋषि-मुनि हैं गावें,  नाम तिहारा निसदिन धयावे| संतों के तुम सदा सहाई,  ईश पिता और कलिका माई| गले में तुम्हारे हीरा सोहे,  जो भक्तों के मन को मोहे| शीश मुकट पगड़ी संग साजे,  द्वार दुंदुभी, नौबत बाजे| हो अजानुभुज प्रभु कहलाते,  पत्थर फाड़ के जल निसराते| भुजदंड तुम्हारे लोह के खम्भे,  शक्ति दीन्ह तुम्हे माँ जगदम्बे| चरणन में जो स्नेह लगाई,  दुर्गम काज ताको सिद्ध हो जाई| तेरो नाम की युक्ति करता,  आवागमन के भय को हरता| जादू-टोना, मूठ भगावे,  तुरतहि सोए भाग्य जगावे| तेरो नाम का गोला दागे,  भूत-पिशाच चीख कर भागे| डाकनी मानत तुम्हरो डंका,  शाकनी भागे नहीं कोई शंका| बाव

बाबा बालक नाथ चालीसा- Baba Balak Nath Chalisa in hindi

बाबा बालक नाथ चालीसा Baba Balak Nath Chalisa in hindi दोहा  गुरु चरणों में सीस धर करूँ मैं प्रथम प्रणाम,  बख्शो मुझको बाहुबल सेव करुं निष्काम,  रोम-रोम में रम रहा रूप तुम्हारा नाथ, दूर करो अवगुण मेरे, पकड़ो मेरा हाथ| चालीसा  बालक नाथ ज्ञान भंडारा,  दिवस-रात जपु नाम तुम्हारा| तुम हो जपी-तपी अविनाशी,  तुम ही हो मथुरा काशी| तुम्हरा नाम जपे नर-नारी,  तुम हो सब भक्तन हितकारी| तुम हो शिव शंकर के दासा,  पर्वत लोक तुमरा वासा| सर्वलोक तुमरा यश गावे,  ऋषि-मुनि तव नाम ध्यावे| काँधे पर मृगशाला विराजे,  हाथ में सुन्दर चिमटा साजे| सूरज के सम तेज तुम्हारा,  मन मंदिर में करे  उजियारा| बाल रूप धर गऊ चरावे,  रत्नों की करी दूर वलावें| अमर कथा सुनने को रसिया,  महादेव तुमरे मन बसिया| शाह तलाईयाँ आसन लाए,  जिस्म विभूति जटा रमाए| रत्नों का तू पुत्र कहाया,  जिमींदारों ने बुरा बनाया| ऐसा चमत्कार दिखलाया,  सब के मन का रोग गवाया| रिद्धि-सिद्धि नव-निधि के दाता,  मात लोक के भाग्य विधाता| जो नर तुम्हरा नाम धयावे,  जन्म-जन्म के दुख बिसरावे| अंतकाल जो सिमरन करहि,  सो नर मुक्ति भाव से मरहि| संकट कटे मिटे सब रोगा,  बालक

सर्व-देवता हवन मंत्र - Mantra for Havan in Hindi

सर्व-देवता हवन मंत्र Mantra for Havan in Hindi. हवन शुरू करने की विधि और मंत्र-  यह पढ़ने से पहले आप यह जान लें कि यह सर्वतो-भद्रमंडल देवतानां हवन की विधि है और यदि आप हवन करने की सम्पूर्ण विधि की जानकारी चाहते हो तो आप हमारे पेज सरल हवन विधि पर क्लिक करके प्राप्त कर सकते हो।  सर्व देवता हवन मंत्रों से सभी देवताओं, नवग्रहों, स्वर्ग-देवताओं, सप्त-ऋषिओं, स्वर्ग अप्सराओं, सभी समुन्द्र देवताओं, नवकुल-नागदेवता आदि को आहुतियां देकर प्रसन्न कर सकते हो| यह जो आपको नीचे मंत्र बताए गए हैं इन मंत्रों के हवन को सर्वतो-भद्रमंडल देवतानां होम: कहते हैं|  हमारे हिन्दू ग्रंथों में 4 प्रकार के यज्ञ प्रत्येक व्यक्ति को करने के लिए कहा गया है| यह 4 यज्ञ इस प्रकार हैं, 1. देव यज्ञ 2. भूत यज्ञ 3. मनुष्य यज्ञ 4. पितृ यज्ञ| देव यज्ञ में सभी देवताओं को अग्नि में आहुति देकर अग्नि देव की पत्नी स्वाहा के द्वारा देवताओं तक भोग सामग्री पहुंचाई जाती है| यह सभी देवता इससे प्रसन्न होकर व्यक्ति को संसारिक भोग का सुख प्रदान करते हैं और उसको सुखों की प्राप्ति होती है| यह सर्व-देव यज्ञ से घर की नकारत्मक ऊर्जा नष्ट होती है

हनुमान दर्शन शाबर मंत्र- Hanuman Darshan Shabar Mantra

हनुमान प्रत्यक्ष दर्शन शाबर मंत्र साधना Hanuman Darshan Mantra Sadhna  यदि आप हनुमान जी के सच्चे भक्त हो और आप ऐसी साधना करने की इच्छा रखते हो, जिससे आपको हनुमान जी के प्रत्यक्ष दर्शन हों, तो आपको हम हनुमान जी की एक बहुत चमत्कारी और गुप्त साधना बताने जा रहें हैं|  यदि आप इस साधना को श्रद्धा, विश्वास और नियम के अनुसार करना शुरू कर देते हो, तो बहुत जल्द ही साधना के बीच में  आपको हनुमान जी की कृपा से अनुभूतियाँ होनी शुरू हो जाती हैं| इस साधना से आपके अंदर ऐसी शक्ति का संचार होना शुरू हो जाता है,  जिससे आप भूत-प्रेत और अन्य बुरी शक्तियों से ग्रस्त अन्य लोगों का भी निवारण कर सकते हो| याद रहे किसी भी साधना में सफलता तभी मिलती है जब आपकी साधना,इष्ट देव और मंत्र में पूर्ण श्रद्धा और विश्वास होता है| असल में श्रद्धा और विश्वास आपको किसी मंत्र में सिद्धि एवं सफलता दिलाते हैं| बाकी सभी विधि-विधान और नियम इसके बाद आते हैं| यदि किसी मंत्र की शंकावान होकर साधना की जाए तो आप चाहे कितने भी नियम अपनाकर और कठिन साधना कर लें, मगर आपको सफलता कभी नहीं मिल सकती|साधना का पहला नियम मंत्र और अप

केतु बीज मंत्र विधि और लाभ -Beej Mantra for ketu in hindi

 केतु बीज मंत्र की सम्पूर्ण विधि और महत्व Beej Mantra of Ketu in Hindi केतु बीज मंत्र विधि और लाभ -केतु को सन्यास, वैराग्य और विरक्ति का कारक ग्रह माना जाता है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार प्रत्येक ग्रह के कुछ विशेष गुण और विशेष अवगुण होते हैं। ऐसे ही केतु ग्रह पापी ग्रह होते हुए भी यदि कुंडली में अच्छी स्थिति में हो तब व्यक्ति को विशेष गुण प्रदान करता है। यदि किसी व्यक्ति की कुंडली में केतु की स्थिति अच्छी हो तब केतु व्यक्ति को सन्यास और वैराग्य की और लेकर जाता है, मगर स्थिति अच्छी होने पर यह सन्यास और वैराग्य व्यक्ति को यश और प्रतिष्ठा दिलाते हैं। यहाँ पर सन्यास और वैराग्य का अर्थ यह नहीं कि व्यक्ति घर-बार छोड़ कर जंगलों में चला जाता है यहाँ पर सन्यास और वैराग्य से अर्थ है कि व्यक्ति संसार में रहते हुए भी सांसारिक वस्तुओं और रिश्तों के प्रति मोह और लगाव ज्यादा नहीं रखता है। वह अपने सांसारिक फ़र्ज़ निभाते हुए भी इन चीज़ों से विरक्त रहता है। जैसे कोई सन्यासी और वैरागी कोई एकांत स्थान ढूँढ़ते हैं ऐसे ही केतु से प्रभावित व्यक्ति को एकांत स्थान में रहना बहुत पसंद होता है। केतु से प्रभावित व्यक्