Skip to main content

Lesson-15, पंच महांपुरुष योग - Panch Mahapurush Yog

कुंडली में पंच महांपुरष योग
Kundli mein Panch-Mahapurush Yog

पंच-महांपुरुष योग का अर्थ( Meaning of Panch-Mahapurush Yoga):- कुंडली  मे पांच ग्रहों  (मंगल, बुध, गुरु, शुक्र और शनि) के द्वारा पांच प्रकार के राज योग बनते हैं, उनको पंच-महापुरुष योग कहा जाता है| कुंडली में मंगल गृह से रुचक नाम का महापुरष योग बनता है, बुध गृह से भद्र नामक महापुरष योग बनता है, बृहस्पति से हंस नाम का महापुरष योग बनता है, शुक्र गृह से मालव्य नाम का महापुरष योग बनता है और शनि गृह से शश नाम का महापुरष योग बनता है |  इन पांच प्रकार के योग को पंच महापुरष योग कहा जाता है| यदि कुंडली में इनमें से कोई योग बनता है तो उस गृह की महां-दशा या अंतर-दशा में व्यक्ति को राज योग की प्राप्ति होती है| कई व्यक्तिओं की कुंडलियों में एक से अधिक भी महांपुरुष योग बनते हैं|
कुंडली में पंच महांपुरुष योग बनने के लिए कुछ सिद्धांत लागू होते है| इन सभी सिद्धांतों के लागू होने के बाद ही कुंडली में पंच-महांपुरुष योग माना जाता है| कुंडली में प्रत्येक महांपुरुष योग अपने अलग-अलग फल देते हैं और आगे हम पांचों महांपुरुष योग के बारे में विस्तार से बताएँगे|
पंच-महांपुरुष योग के सिद्धांत जानने से पहले आप पंच महांपुरुष योग बनाने वाले पांचों ग्रहों की स्वं राशिओं और उच्च राशियों के बारे में जानकारी प्राप्त कर लें, तभी आप इसके सिद्धांत जान पायोगे|

गृह              स्वं राशि नाम और उसका नंबर 
मंगल           मेष(1),  वृश्चिक(8)
बुध             मिथुन (3),  कन्या(6) 
बृहस्पति       धनु(9),  मीन(12)
शुक्र             वृषभ(2),  तुला(7) 
शनि             मकर(10),  कुंभ(11) 

गृह              उच्च राशि 
मंगल           मकर (10)
बुध              कन्या (6)
गुरु              कर्क (4)
शुक्र             मीन (12)
शनि             तुला(7) 

आपको ऊपर बताया गया है कि कुंडली के 12 भावों में जो नंबर लिखे होते हैं, वह राशियों के नंबर होते हैं| आपको ऊपर पंच महांपुरुष योग बनाने वाले सभी 5 ग्रहों की स्वं राशियां और उच्च राशियों के बारे में बताया गया है| सूर्य और चंद्र की एक-एक राशि होती है, इसलिए उनसे महांपुरुष योग नहीं बनता है|

पहला सिद्धांत या शर्त 
कुंडली के केंद्र भाव में गृह का स्वं राशि या उच्च राशि में बैठना:- सबसे पहले आपको यह पता होना चाहिए कि कुंडली के प्रथम (1), चतुर्थ (4), सप्तम (7) और दशम (10) भाव को केंद्र भाव कहा जाता है| दूसरी बात आपको यह पता होनी चाहिए कि कुंडली में 12 भावों में जो नंबर लिखे होते हैं वह राशियों के नंबर होते हैं|
जैसे ऊपर चित्र नंबर.1 में आप देख रहे हो कि यहाँ कुंडली के प्रथम या लग्न भाव में 3 नंबर लिखा हुआ है और 3 नंबर मिथुन राशि का नंबर होता है| यहाँ पर अपने समझ लेना है कि कुंडली के प्रथम भाव में मिथुन राशि है| 
पंच महांपुरुष योग बनने की पहली शर्त यह होती है कि यदि कोई गृह कुंडली के केंद्र भावों (1, 4, 7, 10) में  से किसी एक भाव में अपनी स्वं राशि या उच्च राशि में बैठ जाए तो पंच महांपुरुष बनने की पहली शर्त पूरी हो जाती है|हम आपको नीचे उदाहरण देकर समझाते हैं|
जैसे आप ऊपर कुंडली नंबर एक में देख रहें हों यहाँ पर बुध प्रथम भाव में राशि नंबर 3 अर्थात मिथुन राशि के साथ बैठा है और राशि नंबर 3(मिथुन) बुध की स्वं राशि है| इस तरह से बुध कुंडली के प्रथम केंद्र भाव में अपनी स्वं राशि में बैठा हुआ है, तो यहाँ पर बुध गृह से भद्र महापुरष योग बनने की पहली शर्त पूरी हो जाती है|
ऐसे ही चित्र नंबर. 1 में जैसा आप देख रहे हो कि कुंडली के चतुर्थ भाव में बुध राशि नंबर 6(कन्या) में बैठा हुआ है, यह राशि बुध की स्वं राशि और उच्च राशि भी है| यहाँ पर भी पहली शर्त पूरी हो जाती है|
चित्र नंबर.1 में गुरु सप्तम भाव में राशि नंबर 9 (धनु) में बैठे हैं, यह गुरु की स्वं राशि है और केंद्र भाव में होने के कारण यहाँ पर भी गुरु गृह से हंस नाम का महापुरुष योग बनने की पहली शर्त पूरी हो जाती है| ऐसे ही चित्र नंबर. 1 में गुरु केंद्र के दशम भाव में राशि नंबर 12 (मीन) में बैठा हुआ है, यह राशि भी गुरु की स्वं राशि है, इसलिए यहाँ पर भी हंस महापुरुष योग बनने की पहली शर्त पूरी हो जाती है| 
ऐसे ही इसकी एक और उदाहरण आप चित्र नंबर 2 में देख सकते हो कि यहाँ पर शनि प्रथम भाव में अपनी स्वं राशि नंबर 10(मकर) में बैठा हुआ है, तो यहाँ पर शश नाम का महापुरुष योग बनने की पहली शर्त पूरी हो गई है और दूसरी उदाहरण यहाँ पर शनि दशम भाव में अपनी उच्च राशि नंबर 7 (तुला) में बैठा हुआ है,  तो यहाँ पर भी शनि गृह से शश महापुरुष योग बनने की पहली शर्त पूरी हो जाती है| 

अपने पहली शर्त यही याद रखनी है कि यदि ऊपर बताए गए पाँच ग्रहों में से कोई गृह केंद्र भाव(1, 4, 7, 10) में से किसी एक भाव में अपनी स्वं राशि या उच्च राशि में बैठा हो तो महां पुरुष योग बनने की पहली शर्त पूरी हो जाती है|

दूसरा सिद्धांत या शर्त 
गृह का मारक होना:- यदि पंच महां पुरुष योग बनाने की आपकी ऊपर बताई पहली शर्त पूरी हो जाती है तो साथ में आपको यह देखना होता है कि जो गृह कुंडली में पंच महापुरुष योग बना रहा है, कहीं वह गृह कुंडली में मारक गृह(शत्रु गृह) तो नहीं है| कुंडली में मारक गृह की पहचान के लिए आप कुंडली में योग कारक और कारक गृह पेज पर क्लिक करके जानकारी हासिल कर सकते हो| 
यदि आपकी कुंडली में पंच महांपुरुष योग बनने की पहली शर्त पूरी हो भी जाती है, मगर साथ में यदि वह गृह कुंडली में मारक गृह हुआ तो पंच-महांपुरुष योग भंग हो जाता है|मारकेश गृह के द्वारा पंच महांपुरुष योग नहीं बनता है| 
इसकी उदाहरण आप चित्र नंबर. 3 में देख सकते हो कि यहाँ पर शनि गृह कुंडली के सप्तम भाव में अपनी स्वं राशि में तो बैठे हुए हैं, मगर इस कुंडली में शनि की राशि नंबर 11(कुंभ) अष्टम भाव में होने के कारण यहाँ पर शनि मारक गृह हो जाता है और इस स्थिति में महांपुरुष योग नहीं माना जाएगा| 

तीसरा सिद्धांत या शर्त 
गृह का अंश(Degree):- आपने ऊपर दोनों सिद्धांत देखने के बाद लग्न कुंडली में देखना है कि जो गृह पंच महांपुरुष योग बना रहा है, उसका अंश(Degree) कितनी है|प्रत्येक गृह 0°-5° डिग्री तक बाल्य अवस्था में होता है, यहाँ पर वह 25% परिणाम देता है| 5°-10° डिग्री तक गृह कुमार अवस्था में होता है, यहाँ पर गृह अपने 50% परिणाम देता है| कुंडली में 10°-20° डिग्री तक गृह अपनी युवा अवस्था में होता है और यहाँ पर वह अपने 100% परिणाम देता है| 20°-25° डिग्री तक गृह वृद्ध अवस्था में होता है, यहाँ पर वह अपने 50% परिणाम देता है| 25°-30° डिग्री तक गृह मृत अवस्था में होता है, यहाँ पर शरुवात 25, 26, 27 डिग्री तक वह 25% परिणाम देता है, मगर 28, 29, 30 डिग्री तक वह ना के बराबर फल देता है|
इसलिए यदि आपकी कुंडली में ऊपर बताए गए 2 सिद्धांत लागू होने पर पंच-महांपुरुष योग बन भी जाता है, तो आप उस गृह की डिग्री देख लें कि वह आपको कितने प्रतिशत परिणाम देगा| कुंडली में यदि डिग्री कम या अधिक होने से गृह का बल कम हो जाता है और वह अपना पूर्ण फल देने दे समक्ष नहीं रहता है तो उस गृह का रतन धारण करके आप उसका बल बढ़ा सकते हो|

चौथा सिद्धांत 
गृह की महांदशा और अंतरदशा:- कई व्यक्ति कहते हैं कि हमारी कुंडली में पंच महांपुरुष योग बनने पर भी हमें कोई परिणाम नहीं मिल रहा है, तो आपको यहाँ पर बता दें कि यदि आपकी कुंडली में ऊपर बताए गए तीनों सिद्धांत लागू होने से पंच महांपुरुष योग में से कोई योग बन भी जाता है, तो वह अपना पूर्ण फल तभी देगा जब उस महांपुरुष योग बनाने वाले गृह की महांदशा या अंतरदशा चलेगी| 
यदि आपकी कुंडली में ऊपर बताए चारों सिद्धांत लागू होने से कोई गृह पंच महांपुरुष योग में से कोई योग बनाता है तो वह अपने पूर्ण अच्छे परिणाम देगा और आपकी कुंडली में राज योग बना देगा|

हम आपको आगे बताएँगे कि किस गृह से कौन सा पंच महांपुरुष योग बनेगा और उसके क्या अच्छे परिणाम मिलेंगे|








Comments

Popular posts from this blog

बाबा कालीवीर चालीसा और आरती, Baba Kaliveer ji Chalisa Aarti

बाबा कालीवीर चालीसा और आरती  कालीवीर चालीसा  काली-पुत्र का नाम ध्याऊ, कथा विमल महावीर सुनाऊ| संकट से प्रभु दीन उभारो, रिपु-दमन है नाम तिहारो| विद्या, धन, सम्मान की इच्छा, प्रभु आरोग्य की दे दो भिक्षा| स्वर्ण कमल यह चरण तुम्हारे, नेत्र जल से अरविंद पखारे| कलिमल की कालिख कटे, मांगू मैं वरदान|  रिद्धि-सिद्धि अंग-संग रहे,  सेवक लीजिए जान| श्री कुलपति कालीवीर प्यारे,  कलयुग के तुम अटल सहारे|  तेरो बिरद ऋषि-मुनि हैं गावें,  नाम तिहारा निसदिन धयावे| संतों के तुम सदा सहाई,  ईश पिता और कलिका माई| गले में तुम्हारे हीरा सोहे,  जो भक्तों के मन को मोहे| शीश मुकट पगड़ी संग साजे,  द्वार दुंदुभी, नौबत बाजे| हो अजानुभुज प्रभु कहलाते,  पत्थर फाड़ के जल निसराते| भुजदंड तुम्हारे लोह के खम्भे,  शक्ति दीन्ह तुम्हे माँ जगदम्बे| चरणन में जो स्नेह लगाई,  दुर्गम काज ताको सिद्ध हो जाई| तेरो नाम की युक्ति करता,  आवागमन के भय को हरता| जादू-टोना, मूठ भगावे,  तुरतहि सोए भाग्य जगावे| तेरो नाम का गोला दागे,  भूत-पिशाच चीख कर भागे| डाकनी मानत तुम्हरो डंका,  शाकनी भागे नहीं कोई शंका| बाव

बाबा बालक नाथ चालीसा- Baba Balak Nath Chalisa in hindi

बाबा बालक नाथ चालीसा Baba Balak Nath Chalisa in hindi दोहा  गुरु चरणों में सीस धर करूँ मैं प्रथम प्रणाम,  बख्शो मुझको बाहुबल सेव करुं निष्काम,  रोम-रोम में रम रहा रूप तुम्हारा नाथ, दूर करो अवगुण मेरे, पकड़ो मेरा हाथ| चालीसा  बालक नाथ ज्ञान भंडारा,  दिवस-रात जपु नाम तुम्हारा| तुम हो जपी-तपी अविनाशी,  तुम ही हो मथुरा काशी| तुम्हरा नाम जपे नर-नारी,  तुम हो सब भक्तन हितकारी| तुम हो शिव शंकर के दासा,  पर्वत लोक तुमरा वासा| सर्वलोक तुमरा यश गावे,  ऋषि-मुनि तव नाम ध्यावे| काँधे पर मृगशाला विराजे,  हाथ में सुन्दर चिमटा साजे| सूरज के सम तेज तुम्हारा,  मन मंदिर में करे  उजियारा| बाल रूप धर गऊ चरावे,  रत्नों की करी दूर वलावें| अमर कथा सुनने को रसिया,  महादेव तुमरे मन बसिया| शाह तलाईयाँ आसन लाए,  जिस्म विभूति जटा रमाए| रत्नों का तू पुत्र कहाया,  जिमींदारों ने बुरा बनाया| ऐसा चमत्कार दिखलाया,  सब के मन का रोग गवाया| रिद्धि-सिद्धि नव-निधि के दाता,  मात लोक के भाग्य विधाता| जो नर तुम्हरा नाम धयावे,  जन्म-जन्म के दुख बिसरावे| अंतकाल जो सिमरन करहि,  सो नर मुक्ति भाव से मरहि| संकट कटे मिटे सब रोगा,  बालक

सर्व-देवता हवन मंत्र - Mantra for Havan in Hindi

सर्व-देवता हवन मंत्र Mantra for Havan in Hindi. हवन शुरू करने की विधि और मंत्र-  यह पढ़ने से पहले आप यह जान लें कि यह सर्वतो-भद्रमंडल देवतानां हवन की विधि है और यदि आप हवन करने की सम्पूर्ण विधि की जानकारी चाहते हो तो आप हमारे पेज सरल हवन विधि पर क्लिक करके प्राप्त कर सकते हो।  सर्व देवता हवन मंत्रों से सभी देवताओं, नवग्रहों, स्वर्ग-देवताओं, सप्त-ऋषिओं, स्वर्ग अप्सराओं, सभी समुन्द्र देवताओं, नवकुल-नागदेवता आदि को आहुतियां देकर प्रसन्न कर सकते हो| यह जो आपको नीचे मंत्र बताए गए हैं इन मंत्रों के हवन को सर्वतो-भद्रमंडल देवतानां होम: कहते हैं|  हमारे हिन्दू ग्रंथों में 4 प्रकार के यज्ञ प्रत्येक व्यक्ति को करने के लिए कहा गया है| यह 4 यज्ञ इस प्रकार हैं, 1. देव यज्ञ 2. भूत यज्ञ 3. मनुष्य यज्ञ 4. पितृ यज्ञ| देव यज्ञ में सभी देवताओं को अग्नि में आहुति देकर अग्नि देव की पत्नी स्वाहा के द्वारा देवताओं तक भोग सामग्री पहुंचाई जाती है| यह सभी देवता इससे प्रसन्न होकर व्यक्ति को संसारिक भोग का सुख प्रदान करते हैं और उसको सुखों की प्राप्ति होती है| यह सर्व-देव यज्ञ से घर की नकारत्मक ऊर्जा नष्ट होती है

हनुमान दर्शन शाबर मंत्र- Hanuman Darshan Shabar Mantra

हनुमान प्रत्यक्ष दर्शन शाबर मंत्र साधना Hanuman Darshan Mantra Sadhna  यदि आप हनुमान जी के सच्चे भक्त हो और आप ऐसी साधना करने की इच्छा रखते हो, जिससे आपको हनुमान जी के प्रत्यक्ष दर्शन हों, तो आपको हम हनुमान जी की एक बहुत चमत्कारी और गुप्त साधना बताने जा रहें हैं|  यदि आप इस साधना को श्रद्धा, विश्वास और नियम के अनुसार करना शुरू कर देते हो, तो बहुत जल्द ही साधना के बीच में  आपको हनुमान जी की कृपा से अनुभूतियाँ होनी शुरू हो जाती हैं| इस साधना से आपके अंदर ऐसी शक्ति का संचार होना शुरू हो जाता है,  जिससे आप भूत-प्रेत और अन्य बुरी शक्तियों से ग्रस्त अन्य लोगों का भी निवारण कर सकते हो| याद रहे किसी भी साधना में सफलता तभी मिलती है जब आपकी साधना,इष्ट देव और मंत्र में पूर्ण श्रद्धा और विश्वास होता है| असल में श्रद्धा और विश्वास आपको किसी मंत्र में सिद्धि एवं सफलता दिलाते हैं| बाकी सभी विधि-विधान और नियम इसके बाद आते हैं| यदि किसी मंत्र की शंकावान होकर साधना की जाए तो आप चाहे कितने भी नियम अपनाकर और कठिन साधना कर लें, मगर आपको सफलता कभी नहीं मिल सकती|साधना का पहला नियम मंत्र और अप

बटुक भैरव मंत्र साधना सम्पूर्ण विधि - Batuk Bhairav Mantra Sadhna

बटुक भैरव मंत्र साधना Batuk Bhairav Mantra Sadhna  बटुक भैरव बहुत ही शीघ्र प्रसन्न होने वाले और तुरंत फल देने वाले देवता हैं। यह दुर्गा माता के लाडले पुत्र और शिव के अवतार हैं। यदि इनको अपना इष्ट बनाकर इनकी साधना प्रारम्भ की जाए तो आपकी ज़िंदगी के सभी कष्ट धीरे-धीरे ख़तम होने लगते हैं। नवग्रहों में से किसी भी गृह का दोष कुंडली में चल रहा हो आप बटुक भैरव जी के मंत्र की साधना करके उसका निवारण कर सकते हो।  यदि कोई साधक इनको अपना इष्ट मानकर रोज़ाना इनके मंत्र का जाप श्रद्धा और विश्वास के साथ करने लग जाता है तो बटुक भैरव जी आठों पहर (24 घंटे) उसकी छाया की तरह साथ रहकर रक्षा करते हैं। बटुक भैरव जी का जिस घर में मंत्र जाप रोज़ाना होता हो वहां पर जादू-टोना या कोई भी बुरी शक्ति का प्रभाव नहीं रहता है। बटुक भैरव जी का तीनों लोक में ऐसा प्रभाव है कि काल भी इनके नाम से कांपता है। बटुक भैरव मंत्र साधना के कुछ दिनों के बाद ही व्यक्ति को अनुभूतियाँ होनी शुरू हो जाती हैं। साधना के दौरान कई तरह के चमत्कार होने शुरू हो जाते हैं। यह सब बातें मैं अपने खुद के अनुभव से लिख रहा हूं। मैंने जिस विधि से बटुक भैरव क

केतु बीज मंत्र विधि और लाभ -Beej Mantra for ketu in hindi

 केतु बीज मंत्र की सम्पूर्ण विधि और महत्व Beej Mantra of Ketu in Hindi केतु बीज मंत्र विधि और लाभ -केतु को सन्यास, वैराग्य और विरक्ति का कारक ग्रह माना जाता है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार प्रत्येक ग्रह के कुछ विशेष गुण और विशेष अवगुण होते हैं। ऐसे ही केतु ग्रह पापी ग्रह होते हुए भी यदि कुंडली में अच्छी स्थिति में हो तब व्यक्ति को विशेष गुण प्रदान करता है। यदि किसी व्यक्ति की कुंडली में केतु की स्थिति अच्छी हो तब केतु व्यक्ति को सन्यास और वैराग्य की और लेकर जाता है, मगर स्थिति अच्छी होने पर यह सन्यास और वैराग्य व्यक्ति को यश और प्रतिष्ठा दिलाते हैं। यहाँ पर सन्यास और वैराग्य का अर्थ यह नहीं कि व्यक्ति घर-बार छोड़ कर जंगलों में चला जाता है यहाँ पर सन्यास और वैराग्य से अर्थ है कि व्यक्ति संसार में रहते हुए भी सांसारिक वस्तुओं और रिश्तों के प्रति मोह और लगाव ज्यादा नहीं रखता है। वह अपने सांसारिक फ़र्ज़ निभाते हुए भी इन चीज़ों से विरक्त रहता है। जैसे कोई सन्यासी और वैरागी कोई एकांत स्थान ढूँढ़ते हैं ऐसे ही केतु से प्रभावित व्यक्ति को एकांत स्थान में रहना बहुत पसंद होता है। केतु से प्रभावित व्यक्